Generative AI Kya Hai in Hindi

सूचना प्रौद्योगिकी ने हमारे दैनिक जीवन को अत्यधिक सरल और रोचक बना दिया है। विश्व भर में इंटरनेट, सोशल मीडिया, स्मार्टफोन, और अन्य तकनीकी उपकरणों के उपयोग के रूप में हम सूचना प्रौद्योगिकी के साथ बढ़ चुके हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि कैसे एक सूचना प्रौद्योगिकी अपनी खुद की सृजनात्मकता दिखा सकती है? यहाँ, हम ‘जेनरेटिव आई‘ के बारे में चर्चा करेंगे, जिसे इसके सृजनात्मक स्वरूप के रूप में जाना जाता है।

आरंभिक समझाराहीनी: जेनरेटिव आई क्या होती है?

जेनरेटिव आई एक प्रकार की कृत्रिम बुद्धि (Artificial Intelligence) है जो स्वत: क्रियात्मक रूप से डेटा बना सकती है और विभिन्न प्रकार की जानकारियों, चित्रों, और आवाज को सिमुलेट कर सकती है। यह तकनीकी प्रक्रिया उपयोग करके डेटा को संशोधित करती है और नई डेटा बनाने के लिए उपयोग करती है, जिससे यह लगता है कि यह एक आत्मसंवर्दित ज्ञान के साथ काम कर रही है।

जेनरेटिव आई का मुख्य उद्देश्य नई डेटा, चित्र, ऑडियो, या अन्य मल्टीमीडिया सामग्री बनाना है, जिसे इंसानों की तरह देखा जा सकता है और जिसमें सामान्य भाषा या सांवादिक प्रवृत्तियों का सहयोग किया जा सकता है। इसके लिए, जेनरेटिव आई अल्गोरिदम्स का उपयोग करके एक कृत्रिम मॉडल या सिमुलेशन बनाती है जिसका उपयोग विभिन्न कार्यों के लिए किया जा सकता है।

जेनरेटिव एआई कैसे काम करती है?

जेनरेटिव एआई का काम तीन मुख्य चरणों में होता है:

2.1 शिक्षा (Training): पहला चरण है शिक्षा, जिसमें एक मॉडल को बनाने के लिए डेटा से शिक्षित किया जाता है। इसके लिए, जेनरेटिव एआई को आदर्श डेटा सेट्स दिए जाते हैं, जैसे कि छवियां या वीडियो, और वह सीखती है कि कैसे वे डेटा को बना सकती है।

2.2 सिम्युलेशन (Simulation): एक बार मॉडल शिक्षित होता है, तो यह सिम्युलेशन में जाता है। यहाँ, यह विभिन्न प्रकार की डेटा उत्पन्न करने के प्रयास करता है, जैसे कि छवियों को संशोधित करना, वीडियो बनाना, या गीत बनाना।

2.3 प्राप्ति (Generation): आखिरी चरण होता है प्राप्ति, जिसमें जेनरेटिव एआई नई डेटा को बनाती है और उसे प्रयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध कराती है। यह डेटा सिम्युलेशन में सीखे गए पैटर्न्स और शैली का अनुसरण करता है और नई डेट

जेनरेटिव आई के प्रकार

जेनरेटिव आई के कई प्रकार हैं, और इनमें से कुछ प्रमुख प्रकार निम्नलिखित हैं:

  1. जेनरेटिव एडवर्सेरियल नेटवर्क (GAN): GAN एक प्रकार का जेनरेटिव आई है जिसमें दो प्रमुख भाग होते हैं – एक जेनरेटर और एक डिस्क्रिमिनेटर। जेनरेटर का काम नकली डेटा बनाना है, जबकि डिस्क्रिमिनेटर का काम वास्तविक और नकली डेटा का अंतर करना है। यह प्रक्रिया जेनरेटर को अधिक बेहतर डेटा बनाने के लिए सीखने में मदद करती है।
  2. रेकरेंसियल न्यूरल नेटवर्क (RNN): RNN जेनरेटिव आई का एक अन्य प्रकार है, जिसमें एक प्रारंभिक स्थिति का उपयोग करके नई डेटा उत्पन्न किया जाता है। इसका उपयोग पाठ, गीत, या समय के साथ बदलते हुए डेटा बनाने के लिए किया जा सकता है।
  3. ट्रांसफॉर्मर्स: ट्रांसफॉर्मर्स भी एक प्रकार की जेनरेटिव आई हैं और विशेषत: शैली और भाषा जनरेटिंग के लिए प्रसिद्ध हैं। ये भाषा अनुवाद और टेक्स्ट समृद्धि के क्षेत्र में उपयोग किए जा सकते हैं।

जेनरेटिव आई के उपयोग

जेनरेटिव आई के कई उपयोग होते हैं, और यह तकनीकी विकास के कई क्षेत्रों में लागू हो रही है।

  1. कला और डिज़ाइन: जेनरेटिव आई कला और डिज़ाइन में एक नया दिशा प्रदान कर रही है, जैसे कि कला के रूप में संगीत और चित्रकला की स्थापना करने के लिए उपयोग किया जा सकता है।
  2. वीडियो गेम्स: गेम डेवलपमेंट में, जेनरेटिव आई खिलाड़ियों के लिए नई गेम प्लेयबिलिटी और ग्राफिक्स बनाने में मदद कर सकती है।
  3. नेचरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग: जेनरेटिव आई का उपयोग भाषा प्रसंस्करण, अनुवाद, और ऑटोमेटेड लेखन के क्षेत्र में किया जा सकता है, जिससे विशिष्ट समय में जानकारी बनाने में मदद मिल सकती है।

Follow our blog for more information about technology.

Also read: Prompt Engineering क्या है | Operating System क्या है

error: Content is protected !!